Breaking News

शादी के बाद 27 साल तक पति से अलग रही थी अलका याग्निक जाने क्या थी वजह

मशहूर सिंगर अलका याग्निक किसी पहचान की मोहताज नहीं है. 14 वर्ष की उम्र में म्यूजिक इंडस्ट्री में अपने करियर की शुरुआत की दो हजार से ज्यादा गाने रिकॉर्ड किए और 16 भाषाओं में गाने गाए हैं. अलका याग्निक के जीवन से जुड़ी बातों पर चर्चा करेंगे आज हम आपसे.अलका याग्निक प्रोफेशनल जिंदगी में कामयाब रही हैं लेकिन अपनी इस कामयाबी के पीछे कहीं ना कहीं बहुत ज़्यादा बलिदान भी किया है.

आपको बता दें मशहूर गायिका अलका याग्निक ने हिंदी सिनेमा का वह दौर जिया है जब आइटम नंबर की बजाय खूबसूरत लिरिक्स से गानों को ज्यादा अहमियत दी जाती थी. लोग भी ऐसे गानों को सुनना पसंद करते थे. अलका याग्निक शनिवार को अपना 55 वा जन्मदिन मना रही हैं.प्यार की झंकार मेरे अंगने में जैसे गानों से अपने करियर की शुरुआत करने वाली अलका याग्निक ने हिंदी में सिनेमा को अपने सुपरहिट गाने दिए हैं.

सिंगर अलका याग्निक में 14 वर्ष की उम्र में म्यूजिक इंडस्ट्री में अपने करियर की शुरुआत की थी उन्होंने 2000 से ज्यादा गाने रिकॉर्ड किए हैं 16 भाषाओं में गाने गाए हैं. अलका याग्निक प्रोफेशनल जिंदगी में बेहद कामयाब रही. लेकिन अपनी पर्सनल लाइफ में इस कामयाबी के वह मुकाम नहीं हासिल कर पाई बहुत ज्यादा बलिदान करना पड़ा उनको. अलका ने वर्ष 1989 में शिलांग के बिजनेसमैन नीरज कपूर से शादी की थी. लेकिन दोनों 27 साल से अधिक समय तक एक दूसरे से दूर रहे.

क्या थी दूर रहने की वजह?
आपको बता दे नीरज का बिजनेस शिलांग में था और अलका को सपनों की नगरी मुंबई में रहकर काम करना था. लिहाजा दोनों के लिए एक दूसरे से दूर रहना एक मजबूरी बन गई थी. एक दूसरे से दूर रहने के कारण दोनों ही चुनौतियां का सामना करते रहे.लेकिन इसके बावजूद दोनों का रिश्ता बहुत खूबसूरती से आगे बढ़ता रहा.नीरज को जब भी अवसर मिलता मुंबई आया जाया करते थे. लेकिन अपनी शादी के ज्यादातर दिन अलका सिंगल मदर रही और उन्होंने खुद ही अपने दम पर बच्चों को पाला था.

खुद कहा था शिलांग रहो
जानकारी के लिए बता दे एक इंटरव्यू में अलका ने बताया नीरज ने मुंबई में बिजनेस शुरू करने की कोशिश की थी.लेकिन वह एक छोटे शहर से थे और मुंबई में खुद को स्थापित नहीं कर पाए.यहां बिजनेस शुरू करने के बाद उनका बहुत सारा पैसा डूब गया. इसलिए मैंने उनसे कहा कि वह शिलांग में ही अपना बिजनेस करें. इसके बाद नीरज ने वहीं रह कर अपना काम किया और दोनों प्रोफेशनल फ्रंट पर सफल रहे.

About Next News

Check Also

फौजी बना मिसाल: नारियल और एक रुपया लेकर की शादी, नकदी और सामान लौटाकर लड़की के पिता से बोला-आशीर्वाद ही काफी

कुलदीप नैन भारतीय आर्मी में कांस्टेबल है और वह इस समय पंजाब के जालंधर में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *