Breaking News

तारक मेहता की बबीता जी ने खोला अपने पहले ऑडिशन का राज़ कहा ‘उसने हाथ मेरी पैंट में डाला था’

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में बबीता जी का किरदार निभाने वाली मुनमुन दत्ता आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। उन्होंने अपने किरदार से बहुत से लोगो का दिल जीत लिया है। हाल ही में मुनमुन ने अपने साथ हुई खौफनाक घटनाओं को याद करते हुए इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर किया जिसमे उन्होंने #MeToo मूवमेंट के चलते अपने साथ हुए अनचाही घटना को समाज के सामने रखा था. इसमें उन्होंने 2017 में एक घटना का जिक्र कर बताया वह भी एक समय था जब बेहद दर्द से गुजरी थी। आइये बताते है पूरा मामला।

दरअसल आज की डेट में मुनमुन दत्ता एक फेमस टेलीविज़न एक्ट्रेस बन चुकी है। जानकारी के लये बता दे मुनमुन सोशल मीडिया पर हमेशा एक्टिव रहती है उन्होंने हाल ही में 25 अक्टूबर को अपने साथ हुए अपने साथ हुए परेशानी का जिक्र किया। मुनमुन दत्ता ने अपने पोस्ट में लिखा था कि इस तरह के पोस्ट को शेयर करना और महिलाओं पर हुए छेड़खानी को लेकर हो रहे इस वैश्विक जागरूकता में शामिल होना और उन महिलाओं का एकजुटता दिखाना जो इस उत्पीड़न से गुजरी हों, इस समस्या की भयावहता को दिखाता है.

मुनमुन ने अपना दुःख बयान करते हुए आगे लिखा कि ‘मैं हैरान हूं कुछ ‘अच्छे’ मर्द उन महिलाओं की संख्या देखकर स्तब्ध हैं, जिन्होंने बाहर आकर अपने #metoo अनुभवों को साझा किया है. ये आपके ही घर में, आपकी ही बहन, बेटी, मां, पत्नी या यहां तक कि आपकी नौकरानी के साथ हो रहा है. उनका भरोसा हासिल करें और उनसे पूछें. आप उनके जवाबों पर हैरान होंगे. आप उनकी कहानियों से आश्चर्यचकित होंगे.’

मुनमुन आगे लिखती हैं कि इस तरह का कुछ लिखते हुए मेरी आंखों में आंसू आ जाते हैं. जब मैं छोटी थी तो मैं पड़ोस के अंकल और घूरती हुई उनकी नजरों से डरती थी, जो कभी भी मौका पाकर मुझे देखतीं और मानों धमकातीं कि ये बात अब किसी को नहीं बतानी या मेरे बड़े कजिन जो मुझे अपने बेटियों की तरह नहीं देखते थे या वो आदमी जिसने मुझे हॉस्पिटल में पैदा होते हुए देखा था और फिर 13 साल बाद उसे लगा कि अब वो मेरे शरीर के अंगों को छू सकता है क्योंकि मेरे शरीर में बदलाव हो रहे थे.

आगे कहा कि…या मेरा ट्यूशन टीचर जिसने मेरे अंडरपैंट में हाथ डाला था या वो दूसरा टीचर जिसे मैंने राखी बांधी थी. जो लड़कियों को क्लास में डांटने के लिए ब्रा की स्ट्रैप खींचता था और उनके ब्रैस्* पर थप्पड़ मारता था या फिर वो ट्रेन स्टेशन का आदमी जो यूं ही छू लेता है. क्यों? क्योंकि आप बहुत छोटे होते हो और ये सब बताने से डरते हो. आप इतने डरे होते हो, आपको महसूस होता है कि आपके पेट में मरोड़ उठ रहा है,

आपका दम घुटने लगता है. लेकिन आपको पता नहीं होता कि आप कैसे इस चीज को अपने माता-पिता के सामने रखेंगे या फिर आपको इस बारे में किसी से भी एक भी शब्द कहने में शर्म आएगी और फिर आपके अंदर मर्दों के लिए नफरत पैदा होने लगती है. क्योंकि, यही लोग दोषी होते हैं जो आपको इस तरह से महसूस करवाने पर मजबूर करते हैं.

उन्होंने लिखा कि इस घृणित भावना को अपने आप से दूर करने के लिए मुझे सालों लगे. इस आंदोलन में शामिल होने वाली एक और आवाज बनने के लिए खुश हूं और लोगों को एहसास दिलाता हूं कि मुझे भी नहीं बख्शा गया था. आज मुझमें इतना साहस आ गया है कि मैं किसी भी आदमी को चीर दूंगी जो दूर से भी मुझ पर कुछ भी करने की कोशिश करेगा. मुझे खुद पर आज गर्व है. हालाँकि मुनमुन को देख कर कभी नहीं लगा वह इतने दुखी समय से गुजरी हो वह इतनी स्ट्रांग वीमेन है कि आज सभी लड़कियों पर उनपर गर्व होगा।

About admin

Check Also

लक्ष्मी अग्रवाल की मासूमियत को देख दिल दे बैठे पत्रकार आलोक दिक्षित, आखिर कब और क्यों हुए अलग?

अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की फिल्म छपाक, लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन पर आधारित है. लक्ष्मी अग्रवाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *